Saturday, 27 July 2013

'भोजपुरी बोलने में अपनापन महसूस होता है'

video
जौनपुर। भोजपुरी स्पीकिंग यूनियन मॉरीशस की चेयरमैन डा. सरिता बुधू ने कहा कि भोजपुरी को बढ़ावा देने के लिए प्राथमिक शिक्षा के साथ उसे जोड़ने पर बल दिया जा रहा है। भारत से रोजी रोटी की तलाश में गए लोगों ने ही मॉरीशस को इस मुकाम तक पहुंचाया है। विश्व के तमाम लोग भोजपुरी लेखन का काम कर रहे हैं। इन्हीं समर्पित लोगों के कारण भोजपुरी का भविष्य उज्जवल दिख रहा है। शिक्षा से जोड़कर ही भोजपुरी को मजबूत किया जा सकता है।




Monday, 22 July 2013

पर्यावरण संरक्षण के लिए लोगों को तार्किक प्रवृत्ति का होना होगा



राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार परिषद भारत सरकार के निदेशक डा.मनोज कुमार पटैरिया ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए लोगों को तार्किक प्रवृत्ति का होना होगा। इससे विकास व प्रकृति के साथ सामंजस्य बैठाया जा सके। उन्होंने कहा कि पहले शाश्त्रार्थ ज्ञान को बढ़ाते थे लेकिन आज तर्क के लिए जगह नहीं है लोग केवल अपनी बात लागू करना चाहते हैं चाहे वह गलत हो या सही. इन्ही अवैज्ञानिक अवधारणाओं  के चलते पर्यावरण का संकट भी  बढ़ रहा है, आज हमें इसे संतुलित करने की जरूरत है। यह बातें उन्होंने शनिवार को वीर बहादुर सिंह पूर्वाचल विश्वविद्यालय के संकाय भवन के मॉस काम में आयोजित पर्यावरण संरक्षण एवं विकास में विज्ञान संचार की भूमिका विषय पर आयोजित गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि कही।


उन्होंने कहा कि नेपकीन व साफ्टीकेटेड पेपर जैसी चीजों के निर्माण में हजारों पेड़ों को काटा  जाता  हैं और फिर उसे बनाने में जिस प्रक्रिया का इस्तेमाल होता है वह भी पर्यावरण के प्रतिकूल ही है . इसके  इस्तेमाल पर पर भी हमें स्वयं अंकुश लगाना होगा और उसके विकल्प के रूप में हमें  रुमाल जैसी चीजों के  इस्तेमाल को बढ़ावा देना होगा  जो फिर से काम में  आ सके  । अध्यक्षता कर रहे विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.सुंदर लाल ने कहा कि पर्यावरण का महत्व हर किसी के जिंदगी से जुड़ा है। प्रकृति भी हर किसी की जरूरत को पूरा करने में सक्षम है मगर व्यक्ति की लालच को वह सहन नहीं कर पाती है जिसके चलते उसे अपना रौद्र रूप दिखाना पड़ता है। तब दिखाई पड़ती है उत्तराखंड जैसी त्रासदी।उन्होंने कहा कि हमें पर्यावरण के संकट से उबरने के लिए गाँधी के मनोविज्ञान को अपनाना होगा। प्राचीन ग्रंथों  में इस बात का उल्लेख है कि भगवान श्रीकृष्ण यमुना को प्रदूषित होने से बचाने के लिए आगे आए थे। हर किसी की जरूरत से ज्यादा उसकी भावना को समझना जरूरी है।


कार्यक्रम की शुरुआत में कुलपति प्रो. सुंदर लाल ने डा.मनोज पटैरिया को अंगवस्त्रम व स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया।

इस मौके पर प्रो.एमपी सिंह, डा.अजय प्रताप सिंह, डा.एसके सिन्हा, डा.अवध बिहारी सिंह, डा.एसपी तिवारी, डा.सुनील कुमार, डा.विवेक पांडेय, डा.सुधीर उपाध्याय, डा.चंद्रशेखर सिंह आदि मौजूद थे। संचालन डा.मनोज मिश्र व आभार प्रो.रामजी लाल ने व्यक्त किया।





Saturday, 13 July 2013

124 खिलाड़ियों सहित दस प्रशिक्षक सम्मानित


जौनपुर : भारतीय हाकी टीम के पूर्व कप्तान व पद्मश्री मो.शाहिद ने कहा कि खिलाड़ी केवल अच्छे खेल का प्रदर्शन करे सम्मान स्वयं उनको आकर मिलेगा। हमें समर्पण के भाव से खेलना चाहिए सिर्फ सम्मान पाने के लिए नही। यह बातें उन्होंने शुक्रवार को वीर बहादुर सिंह पूर्वाचल विश्वविद्यालय के संगोष्ठी भवन में आयोजित खिलाड़ियों के सम्मान समारोह में कही।
इस दौरान उन्होंने विभिन्न प्रतिस्पर्धाओं में हिस्सा लेने वाले कुल 124 खिलाड़ियों सहित दस प्रशिक्षकों को गोल्ड मेडल देकर सम्मानित किया। इसके अलावा अ‌र्न्तराष्ट्रीय स्तर के तीरन्दाज अविनाश
कुमार को एक लाख रुपये का चेक दिया गया।

अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रो.सुंदरलाल ने कहा कि असली खुशी खेलने में है न कि तमाशबीन बनने में। विश्वविद्यालय खिलाड़ियों के सम्मान के लिए कटिबद्ध है। इसलिए परिसर स्थित सड़क का नामकरण भी ओलम्पिक विजेता खिलाड़ी पहलवान केडी जाधव के नाम पर रखा गया। सचिव खेलकूद परिषद डा.देवेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि पूर्वाचल विश्वविद्यालय खेलकूद के क्षेत्र में अपना अहम स्थान रखता है। समारोह को निवर्तमान अध्यक्ष डा.विरेंद्र विक्रम यादव व अध्यक्ष खेलकूद डा.दीदार सिंह ने संबोधित किया।

इस मौके पर प्रो.रामजी लाल, प्रो.एमपी सिंह, डा.रमेशमणि त्रिपाठी, डा.मनोज मिश्र, डा.अवध बिहारी सिंह, डा.सरिता सिंह, डा.आलोक सिंह, खेल सहायक रजनीश सिंह आदि मौजूद रहे। संचालन अशोक सिंह ने किया।
Sabhar- Dainik jagran